Raigad fort gate

रायगढ़ सत्रवीं शताब्दी में छत्रपति शिवजी महाराज द्वारा पुनर्निर्मित किया भारत के अद्वितीय किलों में से एक है। जो भारत के महाराष्ट्र राज्य के रायगढ़ जिले में स्थित है। महान मराठा सम्राट शिवाजी महाराज ने १६४७ में, जब उन्हें राजा बनाया गया था, तब इस किले को मराठा राज्य की राजधानी बनाई। मराठा राज्य बाद में मराठा साम्राज्य में परिवर्तित हो गया।

यह किला समुद्र तल से ८२० मीटर (२७०० फीट) की ऊंचाई पर सहयाद्री पर्वत श्रंखला में बना है। किले में लगभग १४००-१४५० सीढ़ियाँ हैं, पर किले के शीर्ष तक पहुँचने के लिए अब रोपवे की सुविधा उपलब्ध है। ब्रिटिश आक्रमण के बाद, इस किले को लूटकर नष्ट कर दिया गया।

आप अपने परिवार, बच्चों के साथ या समूह परियोजना के हिस्से के रूप में रायगढ़ किले की यात्रा कर सकतें
हैं। आप सप्ताहांत में इस किले की यात्रा कर सकतें हैं, याफिर अपनी इस यात्रा को दापोली-मुरुड-हरनाई या श्रीवर्धन-हरिहरेश्वर-दिवे आगर जैसे अन्य पर्यटन स्थल जो कोंकण के तट पर स्थित हैं, उनके के साथ मिला सकतें हैं।

कैसे पोहोंचे?

मार्ग १: (तम्हिणी घाट के माध्यम से): चांदनी चौक – पौड रोड – दवाड़ी – भिरा टॉप – अदारवाडी – निजामपुर – मानगांव रस्ता मुंबई – गोवा राष्ट्रीय राजमार्ग के माध्यम से – महाड – पाचाड – रायगढ़

(तम्हिणी घाट से उतरकर पाचाड तक सीधी सड़क है, लेकिन सड़क की स्थिति ठीक नहीं है।

मार्ग २: (वरंधा घाट के माध्यम से): पुणे-सतारा रोड (एनएच ४) कात्रज के माध्यम से – भोर – वरंधा घाट – शिवथरघल – मुंबई-गोवा राष्ट्रीय राजमार्ग एनएच १७ – महाड – पाचाड – रायगढ़

रायगढ़ राष्ट्रीय राजमार्ग से २३ किलोमीटर दूर है, और वहां जाने के लिए एनएच १७ पर सूचनाफलक उपलब्ध हैं। पुणे और रायगढ़ के बीच की दूरी लगभग १५० किलोमीटर है, और उस स्थान तक पहुँचने में ३-४ घंटे लगते हैं। वहाँ जाने के दोनों रास्तें, यानी ताम्हिणी और वरंधा घाट रात में यात्रा करने के लिए सुरक्षित नहीं हैं। “एक पर्यटन स्थल से अधिक, रायगढ़ किला एक पवित्र स्थान है जो छत्रपति शिवाजी महाराज द्वारा संरक्षित किये गए हिंदवी स्वराज्य (हिंदुओं द्वारा स्व-शासन) की शुभ छाप छोड़ता है।”

रायगढ़ किला सार्वभौम मराठा राज्य की राजधानी थी, जिसे छत्रपति शिवाजी महाराज द्वारा विकसित किया गया था। यह स्मारक हिंदू स्वशासन के प्रति उनकी दूरदर्शिता का प्रतीक है।

यह रायगढ़ किले और आसपास के क्षेत्र के विद्युतीकरण से पहले की प्रस्तावना है। यूरोपीय इतिहासकारों ने इसे ‘पूर्व का जिब्राल्टर’ बताया है। विभिन्न चिह्नों के कारण इसे शिवतीर्थ कहा जाता है। छत्रपति शिवाजी महाराज की सफलता, साहस और देशभक्ति के कारण यह पवित्र स्थान फला-फूला है।

जो आकाश को चीर कर सकता है, जो औसत से बहुत ऊपर है, ऐसा यह किला अजेय और दुर्गम लगता है। इसने बहुत सारे विदेशी आक्रमण देखे हैं और ऐतिहासिक समय में हिंदू स्वशासन की रक्षा की है।

शिवाजी महाराज ने जब उस स्थान को पहली बार देखा तो अवाक रह गए। “यह किला अविश्वसनीय है। इस घने पहाड़ी पर्वत की चोटी से सभी दिशाएं तराशी हुईं लगतीं हैं। इस खड़ी चट्टान पर घास की पत्तियाँ भी नहीं उग सकतीं। सिंहासन पर बैठने के लिए यह एक अद्भुत जगह है।”

प्राचीन काल में किला ही व्यापार करने का स्थान था। विक्रेताओं को अपना माल बेचने के लिए सड़क के दोनों ओर जगह प्रदान की जाती थी।

इस किले की तलहटी में पाचाड गांव के पास एक ‘चित दरवाजा’ है, जिसे ‘जीत दरवाजा’ के नाम से भी जाना जाता है। एक अत्यंत कठिन यात्रा के बाद, आप ‘खुबलढा बुरुज (खुबलढा मीनार)’ तक पहुँचते हैं। यह एक रणनीतिक रूप से निर्मित मीनार है, जहाँसे कोई भी दोनों तरफ से हमला करने वाले दुश्मनों से लढ़कर उन्हें पीछे हटने के लिए मजबूर कर सकता है। वहाँ से लगभग एक मील आगे, एक मुश्किल चढ़ाई पर ‘महा दरवाजा’ है।

लगभग ३५० साल पहले निर्मित, यह दरवाजा बहुत बड़ा है और किले का मुख्य प्रवेशद्वार है। आज भी यह उतना ही प्रभावशाली और मजबूत है जितना तब था। इस ‘महा दरवाजे’ की रचना एक रहस्य है। यहाँ से हमलावर के स्थान का पता लगाया जा सकता है। रास्ते में धुंधली, घुमावदार धारियों के कारण हमलावर को किले का प्रवेश द्वार हाथियों की सहायता से नीचे खींचना मुश्किल हो जाता है। ऐतिहासिक काल में युद्धों में, किलों के प्रवेश द्वार को तोड़ने के लिए हाथियों का उपयोग किया जाता था।

Similar Posts