शिवगंगा की महारानी- वेलु नाचियार
आत्‍मकथाएँ

शिवगंगा की महारानी- वेलु नाचियार

नमस्कार दोस्तों, आज मैं आपके सामने भारतीय स्वतंत्रता संग्राम की एक नायिका की जीवनी प्रस्तुत करने जा रही हूँ। भारतीय इतिहास में कई स्वतंत्रता सेनानी हुए हैं, जिन्हें हम समय के साथ भूल गए हैं। वेलू नाचियार एक ऐसे ही स्वतंत्रता सेनानियों में से एक हैं। वेलू नाचियार भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में कही हद तक…

Marvelous Sai Baba History in Hindi- Saint of 19th Century Unleashed
आत्‍मकथाएँ

Marvelous Sai Baba History in Hindi- Saint of 19th Century Unleashed

Hi Everyone, today I am going to share with you History of Great Saint Sai Baba of India. I hope you will like this Biography of Sai Baba. परिचय: शिर्ड़ी के साईं बाबा को एक आध्यात्मिक गुरु के साथ-साथ पूरे भारत में एक महान संत के रूप में जाना जाता है। उन्हें सभी भक्त स्नेह…

चंद्रगुप्त मौर्य
आत्‍मकथाएँ

चंद्रगुप्त मौर्य

परिचय: चंद्रगुप्त मौर्य का इतिहास मान्यताओं से भरा था। उसके पूरे जीवन का वर्णन करने के लिए पर्याप्त सबूत नहीं हैं। उनका पूरा जीवन उनके गुरु आचार्य चाणक्य से संबंधित है। चाणक्य इतिहास में प्रतिभाशाली व्यक्तित्वों में से एक थे। चाणक्य आज अर्थशास्त्र और राजनीति अगर आप भारत, पाकिस्तान, बांग्लादेश से हैं तो आप हिंदुस्तान…

आत्‍मकथाएँ | समाज सुधारक

Tenali Rama Paheliyan in Hindi With Answers

दिए गए पहेलियों का सही उत्तर देकर नेक्स्ट सवाल के लिए Next पे क्लिक करे| आखिरी सवाल के बाद Submit पर क्लिक कर अपना रिजल्ट देखे| लगभग सभी पहेलियों का जवाब संक्षिप्‍त रूप यानि एक शब्द में है| 

Great Chhatrapati Shivaji Maharaj in Hindi Information- 17th Century
आत्‍मकथाएँ

Great Chhatrapati Shivaji Maharaj in Hindi Information- 17th Century

नमस्कार दोस्तों, आज में श्री छत्रपति शिवाजी महाराज की जीवनी उनके जीवन की महत्वपूर्ण घटनाओं की मदद से मैं आज आपके सामने प्रस्तुत करने का प्रयास कर रहा हूँ ।
शिवराय के शासन से पहले, भारत के राजाओं और सम्राटों ने लोगों पर बहुत अत्याचार और शोषण किया। राजा और अधिकारी देश के लोगों के बारे में नहीं सोच रहे थे। तो दूसरी तरफ, दक्षिण में सम्राट कृष्णदेवराय जैसे शक्तिशाली हिंदू राजा थे। जो राज्य के लोगों का बहुत ख्याल रखते हैं। वह अपने शानदार राज्य और प्रभावी शासन के लिए जाने जाता थे। इसके अलावा, महाराष्ट्र मुख्य रूप से दो भागों में विभाजित था| पहले थे अहमदनगर के सुल्तान निजामशाह और दूसरे विजापुर के सुल्तान आदिलशाह। निज़ामशाह और आदिलशाह के बीच हमेशा संघर्ष हुआ होता था। लगातार लड़ाई के कारण, इस राज्य के लोग बहुत दुखी और हताश थे। दोनों राज्यों के बीच संघर्ष के कारण लोगों को बहुत परेशानी उठानी पड़ती थी। कई लोग बेवजह मारे जाते थे|

झाँसी की रानी लक्ष्मीबाई
आत्‍मकथाएँ

झाँसी की रानी लक्ष्मीबाई

परिचय: रानी लक्ष्मीबाई “झांसी की रानी” के नाम से प्रसिद्ध हैं। उन्हें भारतीय इतिहास में एक कुशल शासक और निष्ठावंत देशभक्त के रूप में याद किया जाता है। उन्हें भारतीय इतिहास में मणिकर्णिका के नाम से भी जाना जाता है। लक्ष्मीबाई ने चूल्हे और बच्चे तक सीमित महिलाओं की पुरुष-प्रधान संस्कृति को बदल के रख…